Process in hindi and process capability kya hai

Process in hindi process capability kya hai

Process कई प्रकार की होती है इसे हिंदी में प्रक्रिया कहते है कंप्यूटर की एक process होती है और quality related एक process होती है आज हम इन दोनों के बारे में बात करते है। process capability और booting process के बारे में।

Process Capability-

Quality को बेहतर बनाने के लिए process का पता लगाने की आवश्यकता होती है process पता लगने के बाद प्रोसेस कैसे बदलती है इसके बाद प्रोसेस की क्षमताओ (Capabilities) को सिद्ध करने के लिए एक Accepted level को consider करना होता है। process की अच्छी क्षमताओ (Capabilities) के साथ  साथ quality का भरोसा और उनकी cost और उनके selection के लिए एक व्यापक आधार (extensive base) बन जाता है।
process in hindi process capability kya hai

process की Capabilities के अंतर्गत मशीन और मनुष्य की Capabilities आती है। प्रोसेस की क्षमताओ का analysis तब करते है  जब बाहरी factor का प्रभाव कम हो जाता है तब प्रोसेस में natural variation का मूल्यांकन करना होता है। process in hindi

Meaning and Concept of Process in Hindi

process की Capabilities को किसी विशिष्ट माप के variation के कम से कम फैलाव के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिससे process से 99. 7 % Measurement सम्मलित किये जा सकते है। प्रोसेस की क्षमता की study process की क्षमताओ को (Measuring) मापने  के लिए की जाती है। जिससे कई प्रकार के tolerances का पता किया जा सकता है। 

1-प्रोसेस की क्षमता को मापने के बाद यह पता चलता है की process विशिष्ट (Specific) tolerance सीमा का सामना कर पाएगी या नहीं। 

2-प्रोसेस specification meet करने में अगर असफल है तो इसका पता लगाया जा सकता है। 

3- प्रोसेस के सुधार को मापना। 

4- प्रोसेस सम्बन्धी requirement पर focus करना। 

5- प्रोसेस अपनाने के लिए मापदंड तय करना। 

standard deviation method इस method के द्वारा क्षमता की study आवश्यक डाटा को एकत्रित करके कर सकते है तथा इस डाटा के standard deviation को calculate करते है। 

प्रोसेस capability process की specification या tolerence का प्रोसेस की natural variability का अनुपात है। process की क्षमता को या तो variability को कम कर या फिर tolerence को ज्यादा करके कर सकते है। 
Process in hindi process capability kya hai
इन्हे भी पढ़े -
---

Booting Process Kya Hai-

Booting process क्या है क्यों होती है और कैसे होती है और उसके साथ साथ कौन कौन सी Processer है। Booting process कोई एक particuler process नहीं है उसके अन्दर बहुत सारी छोटी छोटी process होती है और इन सारी process को कहते है booting process. 

booting process in hindi;boting kya hai;boot kya hai

यह process हर time होती है जब भी हम अपना computer start करते है या restart करते है लेकिन यह हमें पता नहीं चलता है हमें नहीं पता होता है की इसके अन्दर क्या क्या होता है। 

जब भी हम अपने computer या laptop की power बटन को press करते है तब से लेकर आपके सामने display पर desktop available नहीं हो जाता है तब तक जितनी भी process होती है उन सब को booting process कहते है। 
POST का full form Power On Self Test होता है -

बूटिंग process में जो सबसे पहली process होती है उसको कहते है POST मतलब Power On Self Test इस process में हमारा computer जब हम उसे start करते है तब computer खुद ही अपने साथ लगे हुए जीतने भी  devicess होते है internally या externally connect किये जाते है जैसे keyboard mouse internal hard drive जीतने भी devicess connect होते है computer के साथ तब वह power on करके check करता है की वह सभी devicess working condition में है या नहीं अगर कोई भी device working condition में नहीं होता है तो वह उसकी information error message के साथ screen में दिखाई देगा इस process को कहते है POST मतलब Power On Self Test.

POST के होने के लिए भी हमारे computer के जो main component होते है Mother Board, Processer और RAM इन तीनो  को 100 % work करना ही चाहिए computer start होने के लिए जब ये तीनो ही अच्छे से वर्क करेगे तो ही next step POST - Power On Self Test नाम का process होगा अगर इन तीनो मे से कोई भी एक work नहीं कर रहा होता है तो आगे की process नहीं होगी मतलब POST भी नहीं होगा। Power On Self Test होने के बाद जो भी हमने external devices लगाये है या internally जो भी devicess लगे हुए होते है वह power start होने के बाद check करता है इसे हम कहते है POST . 

POST होने के बाद computer एक Booting Device search करता है या की जिससे वह Oprating सिस्टम को computer के अन्दर जो RAM लगी हुई है उसे वह load कर सके windows में तीन फाइलें होती है जिसे computer start होने के बाद computer ram में लोड करता है। 

वह file है 1- COMMAND.COM  2- MSDOS.SYS 3- IO.SYS मतलब Input Output Dot SYS यह फाइलें बिलकुल जरुरी है computer के रन होने के लिए oprating सिस्टम के लोड होने के लिए RAM में इन file को corrupt नहीं होना चाहिए  इसके बाद ही आपका desktop screen पर show होगा .

 यह process केवल windows Operating system में  होती है अलग अलग Operating system में अलग अलग process होती है। यह केवल computer 100 % work करने और Operating system intall होने के बाद होता है। 
अगर आप fresh computer लेकर आते है तब computer में कोई भी Operating system intall नहीं होता है आपको पहले Operating system intall करना पड़ता है। OS intall करने के बाद जब आपके सामने desktop देखाई देने लग जाता है इसको कहते है booting process. 

आप जितनी भी बार आप अपना computer या laptop start करते है या restart करते है तब system कुछ समय लेता है desktop screen पर show करने में इसे हम Booting process कहते है। 

0 coment�rios: