sunday holiday रविवार को ही छुट्टी क्यों मनाई जाती है जानकारी hindi में

Sunday Holiday रविवार को ही छुट्टी क्यों मनाई जाती है-  sunday holiday ravivar ko chutti kyun hoti hai jankari hindi me 
सबको sunday का बड़ी बेसब्री से इन्तजार रहता है लेकिन अगर कोई हमसे पूछता है की (sunday) रविवार को छुट्टी क्यों मनाई जाती है?  इसके बारे में शायद ही आप सभी को पता हो। कई बार interview में भी पूछ लिया जाता है की रविवार को ही क्यों मनाई जाती है छुट्टी

sunday-ravivar-holiday-hindi

रविवार का दिन भारत के लोगो के लिए बहुत ही खास माना जाता है। रविवार को सभी देशो में छुट्टी मनाई जाती है लेकिन कुछ देश है जहा पर sunday को छुट्टी (holiday) नहीं मनाया जाता। 

पूरे हफ्ते काम करने के बाद हम सभी को रविवार का इन्तजार रहता है क्योकी sunday को सभी दफ्तर school  और college बंद रहते है। पर क्या आपने कभी एसा सोचा है की आखिर sunday को ही क्यों छुट्टी मनाई जाती है चलिए जानते है कि sunday को ही क्यों holiday मनाया जाता है क्या कारण है की हम सब को रविवार को ही क्यों छुट्टी दी जाती है। sunday holiday रविवार को ही छुट्टी क्यों मनाई जाती है sunday holiday ravivar ko chutti kyun hoti hai jankari hindi me

sunday-रविवार का इतिहास - History of Sunday 

जब भारत में ब्रिटिश शासन किया करते थे तब company में काम करने वाले मजदूरों को week के सातो दिन काम करना पड़ता था और उन्हें कोई भी छुट्टी (Holiday) नहीं मिलती थी हर sunday को ब्रिटिश अधिकारी चर्च जाकर प्रार्थना करते थे लेकिन काम करने वाले मजदूरों के लिए एसी कोई परंपरा नहीं थी। 

 उस समय श्री नारायण मेघाजी लोखंडे मील मजदूरों के नेता थे उन्होंने ही ब्रिटिश के सामने सप्ताहिक छुट्टी का प्रस्ताव रखा और कहा की week में 6 दिन काम करने के बाद एक दिन अपने देश और समाज की सेवा करने के लिए भी छुट्टी मिलना चाहिए। 

sunday-ravivar-holiday-hindi;श्री नारायण मेघाजी लोखंडे

इसके आलावा उन्होंने कहा की रविवार हिन्दू देवता का दिन है इसलिए sunday को साप्ताहिक छुट्टी Holiday के रूप में घोषित किया जाना चाहिए लेकिन उनके इस प्रस्ताव को ब्रिटिश अधिकारियो ने अस्विकार कर दिया लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और अपना संघर्ष जारी रखा और अंत में 10 जून 1890 को ब्रिटिश सरकार ने रविवार को छुट्टी का दिन घोषित कर दिया। 

1844 में अंग्रेजो के गवर्नर जर्नर ने पढ़ने वाले बच्चो के लिए रविवार को छुट्टी देने का प्रावधान किया। जिसका कारन यह था की student इस दिन कुछ अलग कार्य कर सके और अपने आपको आगे बढ़ा सके। 

लेकिन भारत सरकार ने इसके बारे में कोई भी आदेश जारी नहीं किये है अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन ISO (International Organization for Standardization) के अनुसार रविवार का दिन सप्ताह का आखरी दिन होता है इस बात को 1986 में लागू किया गया था। 

हिन्दू calender के अनुसार - सप्ताह की शुरुआत रविवार से ही होती है यह दिन सूर्य देवता का  दिन होता है हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार इस दिन सूर्य भगवान् सहित सभी देवतावो का पूजा करने का विधान है। सप्ताह के पहले दिन ऐसा करने से सारा सप्ताह मन शांत रहता है किसी भी प्रकार की परेशानी उत्पन्न नहीं होती है और किसी भी व्यक्ति को यह परंपरा निभाने में कोई भी problem न हो इसलिए रविवार को अवकाश माना जाता है। 

कुछ देशो में सप्ताह में sunday के अलावा छुट्टी होती है लेकिन ज्यादातर देशो में sunday को ही छुट्टी मानाने का प्रावधान है इसके पीछे का कारन यही था की सब को सप्ताह में एक दिन आराम मिलना चाहिए। अंग्रेजो ने 1843 में छुट्टी का आदेश निकाला था उसके बाद यह भारत तक पंहुचा। sunday holiday रविवार को ही छुट्टी क्यों मनाई जाती है sunday holiday ravivar ko chutti kyun hoti hai jankari hindi me

vernier caliper and micrometer screw gauge least count formula

vernier caliper and micrometer screw gauge least count formula

vernier caliper-

Whether it is a small thing or a big thing to measure it, we need some instrument and some instrument has been made to measure it. Of which the vernier caliper is one, it is a device in which any object can be measured. micrometer

Use of Vernier Caliper:-  Measure the height to measure the diameter And the vernier caliper is used to measurement the depth. In this, we measure it on the basis of the difference between the two scale. It has the lowest count 0.02 mm or .001 "(inch), that means we can measure the readings of at least 0.02 mm or 0.001" (inch) from Vernier Caliper.

Main components of Vernier Calipers:-

Main scale, Vernier scale, Depth measureting bar, measuring jaws

Diagram of Vernier Caliper:-

vernier caliper diagram, digital


1. Out jaws (to measure the thickness of an object)

2. inside jaws (to measure the depth of an object)

3. depth probe (to measure the depth of an object)

4. Main scale (readings in cm are taken)

5. Main scale (readings are taken in the inch)

6. vernier scale (readings in cm are taken)

7. vernier scale (readings in the inch are taken)

8. Retainer (back to the arjest)

How to calculate the least count of the Vernier Calipers:- 
The 50 readings of Vernier Caliper are equal to reading 49 main scale. Then Vernier Caliper's list will count,

(1 main scale reading=1 mm )

(1 Vernier scale reading =49/50 mm=0.98 mm)

least count =1 main scale reading -1 Vernier scale reading
So finally our least count will be.
least count =1 mm- 0.98 mm 
least count =0.02 mm (This is the least count of Vernier Caliper)

How to read Vernier Caliper reading:-

Example
vernier caliper diagram and images with name
We have to use a formula for reading Vernier Caliper.

Dimension measured = main scale reading➕ (vernier scale reading ❌ least count)

  Here the main scale reading is 24mm. The reading of vernier scale is 35mm and the least count is 0.02.

Dimension measured = 24mm + (35mm ❌0.02mm)

Dimension measured = 24mm + 0.7mm

This is the final reading of our component = 24.7mm

Digital vernier caliper images-

Digital Vernier Caliper-
now-a-days it is used very much because the digital vernier caliper detects the accuracy of any object and is very accurate And in this, any small object can be measured.

digital vernier caliper
digital vernier caliper 

digital vernier caliper
digital vernier caliper images
what is micrometer and types of screw gauge how to use fuction out side parts Digital vernier caliper. 

What is micrometer-

As the name of the micrometer suggests only Micro means the smallest thing can be measured by it. From 0.1mm to micrometer Measure the measure of 100 times less.

Use of micrometer-

The use of the micrometer is used to measure length diameter and thickness of any small object. And it works on the principle of Nut and Bolt. And its least count (reads at least the readings easily)

it happens 0.01 mm OR 0.001 cm. The circular scale is of 100mm.

 Theory of Micrometer (Screw Gauge) -

If we have any thin sheet, then we can extract its thickness too. If we have any thin sheet, then we can extract its thickness to. For this we need screw gauge, it is also called micrometer.

Why is its name screw gauge? gauge means the diameter of something or how thick it is to measure it andThe screw meant that the texture is like a screwSo its full name was screw gauge.

What are the things we need to calculate the thickness of any object-
First need screw gauge second The object of which is to get us thickness And the third meter scale.

The screw of the screw gauge is rotated when clock wise.Then it goes onwards. And When it is rotated anti clock wise. Then it goes backwards. The circular which is made in the micrometer He passes near. And The space between all these is equal to one.The interval of the upper end between these two circles is the interval.We call them the gap between these two circlet intervals. Or It is also called pitch.

When we rotate one round to the circular scale, the clockwise or anti clockwise So this 0.5 mm to 1 mm will move forward or backward. Circular scale consists of 0 to 100 marks, This means 100 divisions on this circular scale.

Usually measured in millimeters (mm). A pitch of a screw gauge can be 0.5 mm or 1 mm. Screw gauge can be 0.5 mm or 1 mm according to the pitch Then the number of circular division can be 50 divisions or 100 divisions.

When we rotate one round to the circular scale So far as the liniar scale goes forward or behind, it tells the pitch. Or can say that the distance between the circlet is called a pitch. In the screw gauge we have, the distance between the two circlet is 1mm. The circular scale has been divided into 100 parts.

When we rotate this whole round, then it goes 1mm forward or backward. It means it's the least number of counts 100 mm of 1 mm or 1/100 means 0.01 mm.

then
least count =  1 /100 =  0.01 mm

If you rotate it half way Then it goes 0.5 mm forward or backward. It means  the least number of counts 50 mm of ०.5 mm or ०.5/50 means 0.01 mm.
then 
least count =  0.5 /50 =  0.01 mm

Main components of Micrometer-

1- Sleeve (main scale is above it)

2- Lock nut (Lock nut is used before reading, so that it does not shake)

3- Spindle (It is attached in the right side of the micrometer and it moves towards left and right.)

4- Anvil (It is located in the left side of the micrometer and it fixes in one place)

5- Frame (This is frame of micrometr. All components are connected to this frame)

6- Thimble (this is connected with the sleeve and has circular scale in it and circular scale is 50 mm scale)

7- Ratchet stop (This works to move the spindle)

what is micrometer,type of micrometer,parts,fuction


How to calculate the least count of the Micrometer-

When the thimble is rotated half the spindle then the spindle goes 0.5mm further. We call it pitch. Then the number of division on the circle scale will be 50mm.

Least count is a formula.

Least count = pitch of the micrometer / number of division on circle scale

Least count = 0.5/ 50 = 0.01mm

This is the Least Count (minimum count) of the micrometer.

When a full round of thimble is rotated then the spindle goes forward 1mm.Then the number of division on the circle scale will be 100 mm. Then it will be Lest count 0.01mm.

Least count = 1/ 100 = 0.01mm

This is the Least Count (minimum count) of the micrometer.

The low count = 0.5 / 50 or 1/100 = 0.01 mm or 0.001 cm.


How to read Micrometer reading-

We have to use a formula for reading Micrometer.

Dimensions  measured = Main scale reading +(Thimble scale reading 🗙 Least count)

We will have to use this method to measure any readings in Micrometer.

what is micrometer,type of micrometer,parts,fuction

As shown in the diagram Here we keep a small component between spindle and anvil. And set it with the help of thimble. And lock it with the help of lock nut. Then we read the main scale that (5 + 0.5) That is Our main reading is 5.5mm.The reading of thimble scale is 28 mm. We will set this reading in the formula.

Dimensions  measured  = main scale reading + (thimble scale reading 🗙 least count)

Dimention  measured  = 5.5mm +(28mm 🗙 0.01mm)

Dimention  measured = 5.5mm+ (0.28mm)

Final Dimention  Reading = 5.78 MM  This is  final reading of our component.
Vernier Caliper and Micrometer screw gauge least  count and formula what is micrometer and types of screw gauge how to use fuction out side parts Digital vernier caliper. 

Vernier Caliper और micrometer क्या होता है

Vernier Caliper और micrometer क्या होता है  definition, इसका least count 0.02 mm or .001 (inch)होता है training,ppt,pdf dial difinition   alpatmank experiment  observation excercise
vernier caliper - चाहे छोटी चीज हो या बड़ी चीज इन्हे measure करने के लिए हमें किसी न किसी instrument की जरुरत पड़ती है और इन्हे मापने के लिए कोई न कोई instrument बनाया गया है जिनमे से vernier कैलिपर एक है यह एक ऐसी device है जिसमे किसी भी object को measurement किया जा सकता है।

Vernier Caliper (वर्नियर कैलिपर) का use - Height (ऊंचाई) को measure  करने के लिए diameter (व्यास) को measure करने के लिए और depth (गहराई) को measurement करने के लिए use किया जाता है।  इसमें हम दो scale के बीच का जो अंतर होता है उसके base पर हम इसको measurement करते है।  इसका least count 0.02 mm or .001"(inch) होता है। यानी हम Vernier Caliper से कम से कम 0.02 mm or 0.001"(inch) की reading को measurement कर सकते है। parts of vernier caliper and its uses.formula of scale pdf ppt dial scale.vernier caliper use in hindi, scale in inch and video in hindi.diagram and difinition experiment  observation excercise
Vernier Calipers के main components:-
 main scale , vernier  scale , depth measuring bar, measuring jaws

vernier caliper

Vernier Calipers का diagramvernier caliper diagram

alpatmank,lestcount,verniercaliper,scale,depth,measurement,mainscale

Img src: wikipedia

1. outside jaws (किसी वस्तु की  मोटाई को measure करने के  लिए)
2. inside jaws (किसी वस्तु के अंदर की गहराई को measure  करने के लिए)
3. depth probe (किसी वस्तु की गहराई को measure करने के लिए)
4. main scale(इसमें cmमें रीडिंग ली जाती है)
5. main scale(इसमें inch में रीडिंग ली जाती है)
6. vernier scale (इसमें cm में रीडिंग ली जाती है)
7. vernier scale (इसमें inch में रीडिंग ली जाती है)
8. retainer (आगे पीछे arjest  करने के लिए)

Vernier Calipers का list count कैसे निकाला जाता है :-

 Vernier Caliper की जो 50 readings होती है वो 49 main scale की reading के बराबर होती है। तब Vernier Caliper  का list count होगा ,

(1 main scale reading=1 mm )
(1 Vernier scale reading =49/50 mm=0.98 mm)

least count =1 main scale reading -1 Vernier scale reading
तो finally हमारा  least count  होगा।

least count =1 mm- 0.98 mm 
least count =0.02 mm (यह Vernier Caliper का least count होता है )
parts of vernier caliper and its uses vernier caliper use in hindi, scale in inch anc video in hindi aur diagram and difinition. formula of scale pdf ppt dial scale experiment  observation excercise
 Vernier Caliper पे reading कैसे लेते है :-
Example 

alpatmank,lestcount,verniercaliper,scale,depth,measurement,mainscale

Vernier Caliper की reading लेने के लिए हमें एक formula का use  करना पड़ता है।

Dimension measured = main scale reading➕(vernier scale reading ❌ least count )

 यहा पर main scale की reading 24mm vernier scale  की reading 35mm  और least count 0.02 है। 

Dimension measured =24 mm + (35 mm0.02 mm)

Dimension measured = 24 mm + 0.7 mm

यह हमारे component की Final reading है  = 24.7 mm

Digital vernier caliper images-
Digital वर्नियर कैलिपर-आजकल  इसका उपयोग बहुत ही ज्यादा किया जाता है क्योकि digital vernier caliper में किसी भी वस्तु का Measurement accurate और बहुत ही जल्द पता चल जाता है और इसमें किसी भी छोटी से छोटी वस्तु का  measurement  किया जा सकता है। 


Digital vernier caliper,Digital vernier,Digital vernier caliper image

Digital vernier caliper-


vernier caliper images,vernier,caliper,caliper images

what is micrometer? micrometer क्या होता है ?


Micrometer क्या होता है ?-

Micrometer जैसे  की नाम से ही पता चलता है Micro मतलब अति सूक्ष्म  छोटे से भी छोटी चीज को इसके द्वारा मापा जा सकता है। micrometer से हम 0.1mm से 100 गुना कम की माप को  भी माप सकते है।  

Micrometer  का उपयोग :-

माइक्रोमीटर का उपयोग  किसी भी small object कि लम्बाई (length) व्यास (diameter) और मोटाई (thickness) को measure करने के लिए उपयोग किया जाता है और यह Nut and Bolt के सिद्धांत पर काम करता है और इसका least count (कम से कम reading को आसानी से माप सकता है) 
0.01 mm OR 0.001 cm होता है। circular scale में  100 mm की होती है। 


Micrometer (Screw Gauge) Theory :- 

अगर हमारे पास कोई भी पतली शीट है तो हम उसकी मोटाई  भी निकाल सकते है। किसी पेपर की कितनी मोटाई है यह पता कर सकते है इसके लिए हमें screw gauge की जरुरत पड़ेगी इसे micrometer भी कहते है। 
इसका नाम screw gauge क्यों है। gauge मतलब किसी चीज का diameter या वो कितना मोटा है इसको नापना और screw का मतलब हुआ इसकी जो बनावट है screw के जैसी है तो इसका पूरा नाम हुआ screw gauge.

किसी भी object की thickness निकालने के लिए हमें किन किन चीजों की आवश्यकता होगी ?-

पहला screw gauge की जरुरत होगी। दूसरा जिस चीज की हमें thickness निकलना है और तीसरा मीटर स्केल। 

माइक्रोमीटर (screw gauge) के स्क्रू को जब clock wise घुमाया जाता है तब यह आगे की तरफ जाता है और जब इसे anti clock wise घुमाया जाता है तब यह पीछे की तरफ जाता है। micrometer में जो चुडिया बनी हुई होती है वो पास पास होती है और इन सभी के बीच का space एक बराबर होता है। इन दो चूडियो के बीच का जो ऊपरी सिरे का जो अंतराल होता है उसे हम इन दोनों के गैप को हम चूड़ी अंतराल कहते है या इसे pitch भी कहते है। 

जब हम circular  स्केल को  पूरा एक चक्कर घुमाते है (clockwise or anti clockwise ) तो यह। 0.5 mm से 1 mm आगे या पीछे की तरफ जायेगी। circular scale में 0 से 100 तक mark बने हुए होते है इसका मतलब इस circular scale पर 100  division होते  है।

आमतौर पर मिलीमीटर (mm) में मापा जाता है। एक स्क्रू गेज (screw gauge) की पिच 0.5 मिमी या 1 मिमी हो सकती है। स्क्रू गेज की पिच के according  0.5 mm या 1 mm हो सकता है  तब सर्कुलर डिवीजन की संख्या 50 डिवीजन या 100 डिवीजन हो सकती है।

जब हम circular  स्केल को  पूरा एक चक्कर घुमाते है तो जितना distance liniar scale आगे या पीछे जाती है उसे कहतें है पिच। या कह सकते है चूडियो के बीच की दूरी पिच कहलाती है। हमारे पास जो screw gauge है इसमें दो चूडियो के बीच की दुरी 1mm होती है। circular  स्केल को 100 parts में divide किया गया है।

 जब हम इसको पूरा एक चक्कर घुमाते है तब यह 1mm आगे या पीछे जाता है। इसका मतलब ये हुआ इसका least काउंट  1 mm का 100  वा हिस्सा या 1 /100  मतलब 0.01 mm  होता है।

least count =  1 /100 =  0.01 mm 

यदि इसको आधा चक्कर घुमाते है तब यह 0.5 mm आगे या पीछे जाता है। इसका मतलब ये हुआ इसका least काउंट  0.5 mm का 50   वा हिस्सा या 0.5 /50  मतलब 0.01 mm  होता है।

least count =  0.5 /50 =  0.01 mm    

Micrometer के main components :-
1- Sleeve  ( इसके ऊपर main scale होता है )
2- Lock nut (reading लेने से पहले lock nutका use किया जाता है ताकि वह हिले नहीं )
3- Spindle (यह माइक्रोमीटर में right  side में लगी हुई होती है और यह  left और right की तरफ move करता है )

4- Anvil (यह माइक्रोमीटर में left side में लगी हुई होती है और यह एक जगह fix होती है )
5- Frame (यह माइक्रोमीटर का frame होता है इस frame से सभी components जुड़े होते है )
6- Thimble (यह sleeve के साथ में जुड़ा होता है और इसमें circular scale होता है और  circular scale में  50 mm की scale होती है )
7- Ratchet stop ( यह spindle को move करने के काम आता है)

alpatmank,lestcount,micrometer,scale,depth,measurement,mainscale

Micrometer का least count कैसे निकाला जाता है? 
    जब thimble को आधा चक्कर घुमाया जाता है  तब spindle 0.5mm आगे जाता है। इसे हम pitch बोलते है। तब circle scale पर division की संख्या 50mm होगी । 

    Least count का formula  होता है
    Least count = pitch of the micrometer / number of division on circle scale
    Least count = 0.5/ 50 = 0.01mm यह micrometer का least count होता है। 

    जब  thimble को पूरा एक चक्कर घुमाया जाता है तब spindle 1mm आगे जाता है तब circle scale पर division की संख्या  100 mm होगी  । तब इसका Lest count 0.01 होगा। 

     Least count = 1/ 100 = 0.01mm होता है।

    कम गिनती = 0.5 / 50 या 1/100 = 0.01 mm  या 0.001 cm होगी।

    माइक्रोमीटर की reading कैसे लेते है ?- 

    Micrometer की  Reading के लिए  FORMULA होता है
    Dimensions  measured = Main scale reading +(Thimble scale reading 🗙 Least count)

    हमें Micrometer में किसी भी रीडिंग को Measure करने के लिए इसी Method का उपयोग करना पड़ेगा। 

    micrometer  kya hota hai


    यहाँ पर हम spindle और anvil के बीच एक छोटे से component को रखते है और thimble की मदद से इसे सेट करते है और lock nut की मदद से इसे lock करते हैतब हमें  main scale कि reading (5+0.5) यानी की हमारे  main reading है 5.5 mm . thimble scale की reading है 28 mm. इस reading को हम formula में सेट करेंगे। Vernier Caliper और micrometer क्या होता है  experiment  excercise observation

    Dimensions  measured  = main scale reading + (thimble scale reading 🗙 least count)

    Dimention  measured  = 5.5mm +(28mm 🗙 0.01mm)

    Dimention  measured = 5.5mm+ (0.28mm)

    Final Dimention  Reading = 5.78 MM ये हमारे component की final reading होगी।

    7 qc tools in hindi

    7 qc tools in hindi seven qc tool kya hota hai ppt and pdf training  posters download quality control kya hota hai presentation in project management
    7 QC tools ek quality control tool hota hai aur ye tool 95% kisi bhi problem ko short out Karne me aur use solve Karne me use Kiya jaata hai. training and pdf,ppt

    7 QC Tools Japan ke Tokio university me professor Ishikawa ne apne Team ke sath milkar 7 QC tools ko banaya hai. Hum isme data ko collect karte  hai use analysis karte hai,identify karte hai, data major karte hai aur root cause findout karte hai.

    Quality control tool 7 types ke hote hai  jinhe hum 7 qc tool ke naam se jante hai.
    SEVEN QC TOOLS in hindi
    7 qc tools hindi,qc posters,check sheet,quality control hindi,seven tools,pdf,ppt,training


    1. Check sheet in hindi and training 
    2. Cause and effet diagram, ishikawa diagram, fishbone diagram. in hindi
    3. Flow chart / satratification chart in hindi and ppt
    4. Histogram  in hindi
    5. Control chart   language ppt in hindi
    6. Pareto analysis in hindi pdf and training 
    7. Scatter diagram in hindi


    Six sigma (6σ)in hindi 
    • 1. Check sheet - Check sheet  in hind
    Check sheet hame count data ko collect karne  me aur organizing karne me hamari help karta hai jisse ki hum aage ki impovement activity ka use aasani se kar paaye. 

    Benefits:-
    1. Data ko collect karne me aasani hoti hai. video in hindi pdf and ppt. with examle application.
    2. Problems ke sourse ko nirdharit karta hai. new 7 quality tools and story and planning.
    3. Data ke sort  banane ke liye. difference between old and new qc tools ppt.

    -What is Quality and Quality policy in hindi
    Example of check sheet:-

    check sheet posters, 7 qc tools in hind, 7 qc tools in hindi language ppt,  7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,dearhindi.com
    yah ek check sheet ka example hai yaaha par defects left side me diya gaaya hai. center me par day defect right side me overall weekly defect diya gaaya hai. hum check sheet ka istemaal karte huye har din ka data collect kar sakte hai. 

    Overall defect me hame yah pata chal jaata hai ki is week me kon sa defect kitni baar aaya hai. yah check sheet hame help karta hai data ko collect karne me.
    • 2.Cause and effect diagram.(Cause and effect diagram /Fishbone diagram/Ishikawa diagram Bhi kaha jaata hai) - in hindi

    Cause and effect diagram yah ek root couse analysing ka tool hota hai isme kisibhi problem ko short out kiya jaata hai isme yah pata chal jaata hai ki  problem kis wajah se aa rahai hai. 

     7 qc tools in hind, 7 qc tools posters,images,  7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,


    Is diagram me Right side me effect likhte hai aur inke jo causes hai unko upper aur lower side me likhte hai aur cause ko identify karne ke liye 6M ( MAN, MACHIN, MATERIAL, METHOD, MEASUREMENT, MOTHER NATURE) or 4M KA  Istemall kiya jaata hai. YA phir aap isme 4P ka bhi use kar sakte hai ( People, Process, Product, Policy procedures) inhe primary causes kaha jaata hai.

    Fishbone diagran banane ke liye Brainstorming kiya jaata hai Brainstorming karne ke baad me jo causes nikalta hai un causes ko 6M me divide kar diya jaata hai baad me phir validation karke us par root cause identify kiya jaata hai. fishwon digram bahut hi important tool hota hai hame potensial causes identify karne ke liye .



     Benefits:-
    1. Hame problem ke causes ko identify karne me madad karta hai. 
    2. Brainstorming ke relation ko bhi stablish karne me madada karta hai.
    3. Ye hame potential causes ko identify karne me madad karte hai.
    4. Ye teem work system ko laagu karta hai. 

    • 3.Flow Chart/Stratification chart - Flow Chart in hindi /Stratification chart in hindi

      ye kafi important tool hai 7 qc tool ka ye hame kisi process ke seqwens ko samjhne me help karta hai.

      Benefits:-

      1. ye hame process ke improvement ki opportunity ko identify karne me madad karta hai.
      2. process ko samajhne me help karta hai aur agar process me kuch non -value added activities hai usko bhi identify karke improve kar sakte hai.
      3. Employee aur organization ke beech working relationships ko clarify karta hai.
        Flow chart ke symbols -

         7 qc tools in hind,posters,images, 7 qc tools in hindi language ppt,  7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,

        Isse hame process ko samajhne me aasani hoti hai aur usme jo hamare defects hai hum unko identify karke us par improvements kar sakte hai.training ppt pdf hindi me dearhindi

        • 4.Histogram in hindi- 



          yah tool data collect karne ke baad me uske distribution ko samajhne ke liye kaam me laaya jaata hai.
          isko jyadatar  (SQC) Statistical Quality Controlme me bhi istemall kiya jaata hai.

          Histogram ka use karne ke liye hamare pass me daata hona chahiye jitna jyada daata hamare pass me rahega to hamara analysis aur utna behtar hoga.

          Example ke liye maan lijiye aapke pass kuch is (heating temp. image)tarah ka moulding machin ka temperature ki reading aapka emplyee la kar deta hai isko dekhne ke baad me hame kuch bhi samaj me nahi aata hai. 

           7 qc tools in hind, 7 qc tools in hindi language ppt, posters,images, 7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,

          Ab hum isko samajhne ke liye tools ka istemaal karege. 
          Tools ke istemaal se hame is data ko conclude karne me aur us par action lene me aasani ho jaati hai.

          Sabse pahle hum is data ko sumrise karte hai  ( ⇓pic no-1 ) isme hame ye pata chalta hai ki jo moulding mchin ka temp. hai wo kaha se start ho raha hai. yaha par minimum temp. 200'c hai aur maximum temp.380'c samajhne ke liye liya gaaya hai.

          Hamne 200'c se 380'c data ko 10 range me baat diya 220 to 220, 220to 240 last me 360 to 380 is tarah se isko 10 alag alag temp. me alag kar diya. isse hame yaah pata chalta hai ki kis range ke kitne data aa rahe hai jisse hame ise samajhne me aasani ho. 7qc tool ppt hindi language and pareto chart in hindi.
           7 qc tools in hind, 7 qc tools in hindi language ppt,posters,images,  7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,

          Ab iske baad  hum is sumrise  data ko  histogram  me dekhte hai. yaha  par aasani  se  hame pata chal jaata hai ki temperature ka jo range  hai wo 200'c se 380'c ke beech  me hai. yaaha par  lower  specific 200'c aur upper specific 380'c diya hai aur kitne daata point kis range me aaye hai ye bhi hame samaj me aa raha hai. 

           7 qc tools in hind, 7 qc tools in hindi language ppt, posters,images, 7 qc tools training in hindi ppt,  7 quality tool in hindi language,  7 quality control tools pdf in hindi,


          yaha par hame pata chal jaata hai ki machin ka temp. lower side ki taraf jaa raha hai yaa upper side ki taraf jaa raha hai. Ab hame  yah  pata chal   jaata   hai ki hamare machin ki condition kya hai agar temp. hame jitna chahiye utna hai to achhi baat hai agar yah temperature sahi nahi hai  to hum Maction ke temperature sudharne ke liye action le sakte hai.

          5.Control chart - Control chart ih hindi

          Samay- samay par ek prakriya kaise badal jaatee hai, yah pata karane ke liyecontrol chart la istemaal kiya jaata hai.

          6. Pareto analysis ChartPareto analysis Chart in hindi

          Pareto chart data analysing tool hota hai. isme hame pata lagta hai ki hame sabse pahle kon si problem pe kaam karna hai.

          7.Scatter diagram -Scatter diagram in hindi

          Scatter diagram ka use hum do sector ke beech me jo relationship hai use findout karne ke liye use kiya jaata hai.

          इन्हे भी पढ़े -

          what is kaizen? in hindi

          what is kaizen? in hindi काइज़ेन kaizen ki meaning full form and posters of kaizen in hindi training ppt and pdf example kya hota hai posters slogan
          kaizen kya hota hai,posters ,ppt,training,quality tools,kaizen fullform,meaning

          what is kaizen? what is kaizen? in hindi
          kaizen एक जापानी शब्द है यह दो शब्दों  से मिलकर बना हुआ है  kai + zen जिसका मतलब होता है change + Good  (बदलाव अच्छे के लिए)  एसा कोई भी बदलाव improvement के लिए जो हम कर सकते है उसे हम kaizen कहते है। इसमें हम छोटे छोटे improvements करते रहते है जिससे की productivity बढती है और waste/rejection में कमी आती है।

          किसी भी organization में उसमे काम करने वाला हर व्यक्ति चाहे वह house-kipping वाला बंदा हो या staff का हर व्यक्ति जहा काम कर रहा है अपने area में रोज छोटे छोटे improvement करे वो काम kaizen कहलाता है। अगर एसा होगा तो company दिन प्रतिदिन growth करेगी।
          kaizen ki meaning,fullform and posters in hindi and training ppt and pdf kaizen example.

          Waste क्या होता है ?- waste in hindi Kachra kya hai

          waste हमारे किसी भी organization में जो activty होती है activty दो तरह की होती है Value Added Activity और Non Value Added Activity मतलब हम जो भी काम करते है उसमे काफी सारा जो बड़ा हिस्सा होता है और एसा माना गया है की 90 % activity हम काम करते है किसी भी organization में जो value Add नहीं होता है बाकी का 10 % value add होता है।
           
          Non Value Added Activity दो तरह की होती है पहला है (NNVA) Necessary Non Value Added Activity इसे Type-1 WASTE भी कहते है और दूसरा है Type-2 WASTE .

          Type-1 Waste (NNVA) - Type-1 WASTE ये दो तरह के Activity होते है जो की रहते तो waste ही है लेकिन company के लिए जरुरी भी होते है जैसे की Inspection करना Inspection करने से Parts की value बढती नहीं है लेकिन जरुरी है क्यों कि Inspection करने से हमको उस parts का डाटा मिलेगा जिससे हम Analysis करके  उसमे Improvement कर सकते है। इसे  Necessary non value added activity कहेगे।

          जबकि Type 2 Waste जो होता है ये Pure waste होता है। waste  को समझने के लिए कंपनी के कुछ Hidden बातो को जानना होगा। अगर आपकी एक company है कंपनी के अन्दर ऐसे बहुत सारे Activity होती है जो की waste होती है लेकिन उनके बारे के हमे पता नहीं होता है वे छिपे हुए होते है।

          जैसे की Break down time ज्यादा है, setup time ज्यादा होता है, shedule सही नहीं है, house kipping सही नहीं है, लोगो का सही तरह से उपयोग नहीं किया जा रहा है, इस तरह की कई सारी activity है जो Hidden रहती है। kaizen ki meaning aur fullform and posters in hindi and training ppt etc. pdf kaizen example.
          कौन कौन से waste होते है ?
          Three type से company में waste हो सकते है।

          1. People waste people in hindi man kya hai
          2. Quality waste quality in hindi 
          3. Quantity waste quantity in hindi qty kya hai

          what is kaizen in hindi,weste,change,good,system,components,posters,image,

          People waste तीन प्रकार से हो सकता है - 

          1. Over processing
          2. Unnecessary motion
          3. Waiting

          1. Over processing- किसी भी चीज को requirement से ज्यादा करना।  एक बार inspection करने के बाद दूसरी बार inspection करना waste है।  एक बार cleaning  किया फिर दूसरी बार cleaning  किया अगर इसकी जरुरत नहीं थी फिर भी आपने किया इसे over processing कहते है।

          2. Unnecessary motion - किसी भी तरह का motion किसी भी काम के लिए जैसे आप किसी material को  move कर रहे हो या किसी computer में किसी file का इसे इसे motion कहते है । हमें  unnecessary motion को  कम करना होगा। हम इसे रोक तो नहीं सकते है लेकिन इसे कम किया जा सकता है।

          3. Waiting-  किसी भी तरह का wait जो है waste हो सकती है। अगर आपका Machin रुका हुआ है या  Material नहीं है। material आने के बाद instruction नहीं है की कौन सा material  बनाना है waste है।आप computer में किसी file को send कर रहे है internet slow है ये भी एक तरह का waste है।  electric चली गई आदमी वेट कर रहा है waste है। किसी भी तरह का जो waiting (इंतज़ार) होता है हमारे system में सारे के सारे  waste होते है। हमें waste को identify करना है और उनको कम करना है। 

          Quantity waste  तीन प्रकार से हो सकता है 

          1. Inventory
          2. Over production
          3. Transportation

          1. Inventory - inventry किसी भी तरीके का हो चाहे वो working progress हो या finish  good हो हर तरह का invetory एक बड़ा waste है inventry मतलब आपका work जहा पर रुका होता है।

          2. Over production- over production को बहुत बड़ा waste माना गया है आप अगर बहुत production करेगे तो इससे जगह की problems को face करना पड़ेगा और इससे कई सारी problems generate हो जाती है।

          3. Transportation - किसी भी कंपनी में कोई भी transportation हो रहा हो जैसे  मटेरियल का movement हो रहा है या किसी और चीज का अगर transportation से कोई भी value add नहीं होती है तो इसलिए हमें unnecessary transportation को बंद करना है।

          Quality waste -
          Quality waste Defects से होता है  किसी भी तरह का Rejection या फिर Rework अगर हो रहा है ये  एक बहुत बड़ा waste है इसके कई सारे कारण हो सकते है Man, Machine, Material,  Method, Measurement और  Environment इनमे से किसी कारण से हमारा Defect आ सकता है। हमें इनको control करना है। अगर ये control नहीं होगा तो customer के पास ख़राब material supply होगा  इससे cost बढ़ जाता है और customer को satisfection नहीं मिल पाता  है। 5s  principles in hindi

          kaizen कैसे शुरू करे?

          काइज़ेन की एक Meeting होती  है जिसमे सभी department के कर्मचारियों को शामिल किया जाता है। और उन्हें इसके बारे में बताया जाता है कि हमें kaizen क्यों करना चाहिए? इसको करने से क्या क्या  लाभ हो सकता है।

          हमें kaizen क्यों करना चाहिए ?-

          1.इससे अत्यधिक Production (उत्पादन) होता है ।
          2.कच्चे माल (Raw materials) और ईंधन की बढ़ती हुई कीमत।
          3. कम कीमत में अच्छा व best Quality का Product का उत्पादन करना।
          4. customer की जरुरत केअनुसार अच्छी quality का product उत्पन्न करना।

          kaizen में हम कैसे योगदान दे सकते है?

          1. कार्यस्थल में 5s system का use करके।
          2. कार्य-प्रणाली (methodology) में छोटे छोटे सुझाव (suggestion) देकर।
          3. अनुशासन बनाकर।
          4. अपने कार्य से सम्बंधित  सरलीकरण (Simplification) करके।
          5. जो हम काम करते है उसे और आसान बनाकर।
          6. Quality में लगातार सुधार करके।
          7. कार्य के दौरान आने वाली समस्याओं के समाधान में बड़-चढ़ कर भाग लेना।

          kaizen के सुझाव :-

          1. उत्पादन प्रक्रिया और मशीनों  में सुधार करना चाहिए।
          2. कार्यालय की कार्यप्रणाली में सुधर करना चाहिए।
          3. नए उत्पाद के सम्बन्ध में सुधार।
          4. customer संतुष्ट होना चाहिए आपकी quality  से।

          kaizen के लाभ :-

          1. कार्यप्रणाली में सुधार आएगा।
          2. काम आसान हो जायेगा।
          3. सुरक्षित काम होगा।
          4. अनावश्यक काम समाप्त हो जाएगा।
          5. Quality में सुधार हो जायेगा।
          6. उत्पादन में सुधार हो जायेगा।
          7. उत्पादन का मूल्य कम हो जाएगा।
          कचड़ा  kachra kya hota hai people in hindi kya hota hai waste kya hai 

            इन्हे भी पढ़े -

            Process in hindi and process capability kya hai

            Process in hindi process capability kya hai
            Process कई प्रकार की होती है इसे हिंदी में प्रक्रिया कहते है कंप्यूटर की एक process होती है और quality related एक process होती है आज हम इन दोनों के बारे में बात करते है। process capability और booting process के बारे में।

            Process Capability-

            Quality को बेहतर बनाने के लिए process का पता लगाने की आवश्यकता होती है process पता लगने के बाद प्रोसेस कैसे बदलती है इसके बाद प्रोसेस की क्षमताओ (Capabilities) को सिद्ध करने के लिए एक Accepted level को consider करना होता है। process की अच्छी क्षमताओ (Capabilities) के साथ  साथ quality का भरोसा और उनकी cost और उनके selection के लिए एक व्यापक आधार (extensive base) बन जाता है।
            process in hindi process capability kya hai

            process की Capabilities के अंतर्गत मशीन और मनुष्य की Capabilities आती है। प्रोसेस की क्षमताओ का analysis तब करते है  जब बाहरी factor का प्रभाव कम हो जाता है तब प्रोसेस में natural variation का मूल्यांकन करना होता है। process in hindi

            Meaning and Concept of Process in Hindi

            process की Capabilities को किसी विशिष्ट माप के variation के कम से कम फैलाव के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिससे process से 99. 7 % Measurement सम्मलित किये जा सकते है। प्रोसेस की क्षमता की study process की क्षमताओ को (Measuring) मापने  के लिए की जाती है। जिससे कई प्रकार के tolerances का पता किया जा सकता है। 

            1-प्रोसेस की क्षमता को मापने के बाद यह पता चलता है की process विशिष्ट (Specific) tolerance सीमा का सामना कर पाएगी या नहीं। 

            2-प्रोसेस specification meet करने में अगर असफल है तो इसका पता लगाया जा सकता है। 

            3- प्रोसेस के सुधार को मापना। 

            4- प्रोसेस सम्बन्धी requirement पर focus करना। 

            5- प्रोसेस अपनाने के लिए मापदंड तय करना। 

            standard deviation method इस method के द्वारा क्षमता की study आवश्यक डाटा को एकत्रित करके कर सकते है तथा इस डाटा के standard deviation को calculate करते है। 

            प्रोसेस capability process की specification या tolerence का प्रोसेस की natural variability का अनुपात है। process की क्षमता को या तो variability को कम कर या फिर tolerence को ज्यादा करके कर सकते है। 
            Process in hindi process capability kya hai
            इन्हे भी पढ़े -
            ---

            Booting Process Kya Hai-

            Booting process क्या है क्यों होती है और कैसे होती है और उसके साथ साथ कौन कौन सी Processer है। Booting process कोई एक particuler process नहीं है उसके अन्दर बहुत सारी छोटी छोटी process होती है और इन सारी process को कहते है booting process. 

            booting process in hindi;boting kya hai;boot kya hai

            यह process हर time होती है जब भी हम अपना computer start करते है या restart करते है लेकिन यह हमें पता नहीं चलता है हमें नहीं पता होता है की इसके अन्दर क्या क्या होता है। 

            जब भी हम अपने computer या laptop की power बटन को press करते है तब से लेकर आपके सामने display पर desktop available नहीं हो जाता है तब तक जितनी भी process होती है उन सब को booting process कहते है। 
            POST का full form Power On Self Test होता है -

            बूटिंग process में जो सबसे पहली process होती है उसको कहते है POST मतलब Power On Self Test इस process में हमारा computer जब हम उसे start करते है तब computer खुद ही अपने साथ लगे हुए जीतने भी  devicess होते है internally या externally connect किये जाते है जैसे keyboard mouse internal hard drive जीतने भी devicess connect होते है computer के साथ तब वह power on करके check करता है की वह सभी devicess working condition में है या नहीं अगर कोई भी device working condition में नहीं होता है तो वह उसकी information error message के साथ screen में दिखाई देगा इस process को कहते है POST मतलब Power On Self Test.

            POST के होने के लिए भी हमारे computer के जो main component होते है Mother Board, Processer और RAM इन तीनो  को 100 % work करना ही चाहिए computer start होने के लिए जब ये तीनो ही अच्छे से वर्क करेगे तो ही next step POST - Power On Self Test नाम का process होगा अगर इन तीनो मे से कोई भी एक work नहीं कर रहा होता है तो आगे की process नहीं होगी मतलब POST भी नहीं होगा। Power On Self Test होने के बाद जो भी हमने external devices लगाये है या internally जो भी devicess लगे हुए होते है वह power start होने के बाद check करता है इसे हम कहते है POST . 

            POST होने के बाद computer एक Booting Device search करता है या की जिससे वह Oprating सिस्टम को computer के अन्दर जो RAM लगी हुई है उसे वह load कर सके windows में तीन फाइलें होती है जिसे computer start होने के बाद computer ram में लोड करता है। 

            वह file है 1- COMMAND.COM  2- MSDOS.SYS 3- IO.SYS मतलब Input Output Dot SYS यह फाइलें बिलकुल जरुरी है computer के रन होने के लिए oprating सिस्टम के लोड होने के लिए RAM में इन file को corrupt नहीं होना चाहिए  इसके बाद ही आपका desktop screen पर show होगा .

             यह process केवल windows Operating system में  होती है अलग अलग Operating system में अलग अलग process होती है। यह केवल computer 100 % work करने और Operating system intall होने के बाद होता है। 
            अगर आप fresh computer लेकर आते है तब computer में कोई भी Operating system intall नहीं होता है आपको पहले Operating system intall करना पड़ता है। OS intall करने के बाद जब आपके सामने desktop देखाई देने लग जाता है इसको कहते है booting process. 

            आप जितनी भी बार आप अपना computer या laptop start करते है या restart करते है तब system कुछ समय लेता है desktop screen पर show करने में इसे हम Booting process कहते है।