Aadhar card क्या है ? इससे होने वाले नुकसान

आधार कार्ड क्या है ? aadhar card kya hai ? इससे होने वाले नुकसान 
 आधार कार्ड भारतीय सरकार द्वारा दिया गया  एक ऐसा पहचान पत्र है जिसमे 12 अंको का नंबर दिया जाता है। जिसमे किसी आदमी से जुडी हुई अधिकांश बाते एक ही कार्ड के द्वारा मिल सकती है जिसमे आपका नाम ,आपका address ,आपकी उम्र, Date of birth, बैंक की जानकारी pancard की जानकारी इसके अलावा आपकी उंगलियों के निशान ( fingerprint ) आपकी फोटो आपका mobile number और आँखों की scanning भी की जाती है जिससे आधार कार्ड आपके लिए एक खास पहचान पत्र बन जाता है।

losses of aadhar card,scam, pahchan patr indian id card.

iske aalawa kahi par aapko apna identity card dena hota tha waha par aap apna aadhar card laga sakte hai.pahle aapko name date of birth aur address ke liye alag alag id card dena padta tha lekin aadhar card ke aane se aap kewal ek hi card use me la sakte hai.

यह भारत का विशेष identity कार्ड है जिसमे सरकार द्वारा आपका नाम ढूढ़ते ही आपके बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिल सकेगी इसके अलावा आपका कोई दूसरा आधार कार्ड नहीं बनवा सकता है। क्योकि आधार कार्ड पर आपके आँखों को scan और उंगलियों की निसानी होती है और आपको 12 digit का नंबर दिया जाता है जो किसी और के पास नहीं होता है। आधार कार्ड का पंजीकरण करना बिल्कुल free है और यह केवल एक बार कीजाने वाली प्रक्रिया है। aap india me kahi se bhi adhar card ke liye apply kar sakte hai जरुरी नहीं है की आप जहा रहते है वही से ही इसे बनवाये एक बार card मिलने ke baad aap second time apply nahi kar sakte hai क्यों की ek single vyakti ko ek hi aadhar card issue kiya ja sakte hai। यह कार्ड जारी कराने के लिए आपके पास मान्यता प्राप्त id proof ,जैसे वोटर पहचान पत्र को लेकर आधार पजीकरण के office में जाना होगा। adhaar card बनवाने के 90 दिनों के अंदर आपका आधार कार्ड आपके दिए गए   address पर आ जाता है। Aadhar card क्या है ? इससे होने वाले नुकसान ke baare me

  • AAdhar card से होने वाले नुकसान :-  
अगर मै आपसे कहू आपका नाम आपका gender ,आपका पैनकार्ड नंबर आपकी उम्र आप कहा रहते है आपका मोबाइल नंबर और आपका आधार कार्ड नंबर ये सारी जानकारी आपके बारे में कोई भी खरीद सकता है बस कुछ पैसे देकर तो आपको कैसा लगेगा। 

आधार कार्ड से रिलेटेड एक scam हो रहा है। (UIDAI ) unique identification authority of india ये government control authority है जो आधार कार्ड  से related हर matter handle करती है। 

problem क्या थी काफी सारे आधार कार्ड के authentication (प्रमाणीकरण) में problem आ रही थी  जैसे की लोगो का फिंगर प्रिंट मैच नहीं हो रहा था आधार कार्ड से रिलेटेड लोगो का deta सही नहीं था। इन सारी चीजों को सही करने के लिए इस authority ने decide किया की गांव गांव में जाकर entrepreneurs (व्यवसायी) को चुनेगी और उनको भेजेगी छोटे छोटे गांव में आधार कार्ड को चेक करने के लिए की उनका डाटा सही है या नहीं। Aadhar card क्या है ? इससे होने वाले नुकसान 

अब ये चीज चेक करने के लिए उन लोगो को  जो village में जाकर डाटा को check करने वाले थे उनको अपने पुरे डाटा बेस जहा पर आपकी सारी information save है जितने भी लोगो ने आधार कार्ड बनवाया था  उन लोगो की information एक ही जगह सेव है। उसका admin access दे दिया इन्होने जो गांव में जाकर डाटा चेक करने वाले थे। और बाद में हुआ क्या उनमे से कुछ लोगो ने तरीका ढूढ़ लिया कैसे नए admin accounts बनाये जा सकते है एक user id और password जिससे की कोई भी इस डाटा base को देख सकता है। और इनमे से कुछ ने ये सब बेचना सुरु कर दिया। कुछ पैसे लेकर एक नया  user id और passworld बना दिया जाता था जिसे इस पुरे डाटा को देखा जा सकता था जिन्होंने अपना आधार कार्ड बनवाया था। 

अगर आप ये सोच रहे है की अगर किसी को आपके बारे में आपका फ़ोन नंबर आपका  पता चल जाता है तो क्या फर्क पड़ता है तो मै आपको बता दू आधार कार्ड बनने के बाद इसे लिंक किया जायेगा आपके बैंक account से आपके pan card से अपने mobile number से सभी जगह से इसे लिंक कर दिया जायेगा और इसमें कई तरह से scam किया जा सकता है आपकी information का use करके। 

कितने प्रकार के scam किये जा सकते है आधार कार्ड से -

  • Phishing scams क्या होता है ?

 (घोटाला) scams करने करने का आसान तरीका हो सकता है ये क्या होता है basically इसमें आपको किसी तरह से बेवकूफ बनाया जायेगा आपसे पैसे निकालने के लिए इसमें कोई भी बेवकूफ बन सकता है। जैसे की कोई scammer (धोखाधड़ी करने वाले लोग) को आपका नाम पता है इसको आपका बैंक account पता है आपका मोबाइल number पता है और ये scammer आपको फ़ोन करके आपसे बोलेगा की बैंक से बोल रहा हु आपका अकाउंट इस बैंक में है अगर आपको अपना आधार कार्ड लिंक करना है आपके बैंक अकाउंट में तो मै आपका काम फ़ोन के द्वारा कर सकता हू इसके लिए आपके मोबाइल में एक otp (one time password ) आएगा verification के लिए वो आप बस मुझे बता दीजिये आपकी identity verify करने के लिए मै ये कर रहा हू। ये करने से मै आपका आधार कार्ड बैंक से लिंक कर दिया जायेगा। 

ऐसे में सामने वाले को लगेगा की इसे मेरा नाम पता है बैंक पता है मेरा mobile number पता है ये आदमी सही बोल रहा है ऐसे में आप बस one time password बतायेगे अपनी verification के लिए और scammer उस password का use करलेगा आपके अकाउंट से पैसे निकलने के लिए। इस scams में बहुत से लोग फस भी गए है। ये तो सिर्फ एक तरीका है बताने का आपको scammer कुछ भी बता सकता है अब आपको ध्यान में रखने वाली ये बात है की आप अपनी important detail फ़ोन पे मत बताइये जैसे की otp हो गया बैंक account detail अगर आपको लगता है की सही में ये आदमी बैंक से बोल रहा है तो आप उसे बोल दीजिये की मै  ये जानकारी बैंक में आकर आपको दे दूगा। 

  • Fingerprint-authentication (फिंगरप्रिंट प्रमाणीकरण) पर scams किये जा सकते है

अगर आप simcard खरीदने जाते हो और आपको बोलै जाता है की आप अपना अंगूठा का निशान दीजिये fingerprint-authentication के लिए एक बार में तो सिम आपको दे दिया जायेगा। और बादमे फिर से आपसे बोलै जायेगा की fingerprint अभी हुआ नहीं है जरा फिर से करिये और आप  fingerprint-authentication के लिए फिर से कर देते है और सिम कार्ड बेचने वाला दूसरा सिम कार्ड issue कर देता है जिसके बारे में आपको पता भी नहीं चलता है। आप एक सिम कार्ड लेकर चले जायेगे और वो आदमी आपका दूसरा सिम कार्ड किसी और को बेच देगा जो की आपके  fingerprint से लिया गया सिम कार्ड है और वो दूसरा आदमी कोई भी हो सकता है कोई चोर हो सकता है terrerist हो सकता है ऐसे में पुलिस मोबाइल नंबर द्वारा आपतक पहुंच जाएगी क्योकि सिम कार्ड आपके  fingerprint से ख़रीदा गया है। इस तरह से भी scams किये जा सकते है। 

आधार कार्ड से scams करने के और बहुत सरे तरीके है जो की किये जा सकते है। अब इसमें आपको लगेगा की ऐसा तो किसी भी कार्ड के साथ ऐसा scam किया जा सकता है ऐसे में हमें खुद बचना चाहिए। Problem ये है की आधार कार्ड एक single point data base है जिसमे आपकी  हर एक चीज link की जा रही है आपका सारा डेट यहाँ पर आकर collect होता है। आधार कार्ड से पहले  हमारे पास कई कार्ड थे हमारी identity को दिखाने के लिए  जैसे  वोटर id कार्ड ,passport ,driving licence, अगर इनमे से कुछ गायब भी हो जाता है तो आपको कोई problem नहीं होती है आप उसकी जगह पर दूसरे कार्ड का use कर सकते है अगर आपके पास कोई भी एक कार्ड आपके पास नहीं रहता है। 

आधार कार्ड से हर चीज link की जा रही है आपका मोबाइल नंबर ,आपका बैंक account,आपका pan card  number और इसे hack भी किया जा सकता है इससे corruption होने के chancess बढ़ जाते है। 

what is motherboard in hindi

what is motherboard in Hindi Meaning types of Installation and Introduction of Integrated 
कंप्यूटर में सभी parts एक दूसरे से connect होते है अगर एक भी parts ना रहा तो पूरा computer नहीं चल पायेगा फिर चाहे वह CPU हो या Motherboard हो Keyboard हो या Mouse कंप्यूटर को चलाने में सबका अहम योगदान होता है।
इस पोस्ट में आपको पता चलेगा की Motherboard क्या होता है Motherboard कंप्यूटर या लैपटॉप के अंदर लगा हुआ एक ऐसा circuit board होता है जिससे कंप्यूटर के सभी parts जुड़े हुए होते है यानी CPU,RAM, DVD Writer, Hard drive आदि ये सभी के सभी parts motherboard से ही connect होते है इसको हम PCB (printed circuit board ) कहते है।
motherboard,computer,tips,cpu,mouse,keyboard,hindi

motherboard में बहुत सारी छोटी छोटी चीजे लगी हुई होती है लेकिन इसके कुछ important parts होते है जैसे

RAM स्लॉट - ram slot में computer की ram लगी  हुई होती है यह कंप्यूटर का बहुत छोटा सा पार्ट होता है लेकिन बहुत important होता है जब भी हम computer को purchase करने जाते है तब हम अच्छी ram वाला ही computer खरीदते है जिससे वह सही स्पीड से काम कर सके जितनी ज्यादा RAM वाला कंप्यूटर होगा वह उतना ही smooth चलेगा क्योकि ज्यादा RAM वाला computer एक साथ कई सारी application को Run कर सकता है बिना किसी रुकावट के जब की कम RAM वाला computer ज्यादा एप्लीकेशन एक साथ खोलने पर रुकने लगता है hang  हो जाता है क्यों की वह अच्छे से हैंडल नहीं कर पाता  है।

CPU सॉकेट - CPU socket कंप्यूटर के अंदर motherboard में लगा हुआ वो पार्ट होता है जिस पर processor लगाया जाता है हर कंप्यूटर में processor को कंप्यूटर की छमता के अनुसार लगाया जाता है market में काफी तरह के processor है जैसे octa-core ,p 1  ,p 2 core i 7 आदि। 
pdf Meaning types of Installation Introduction of Integrated -
Graphic कार्ड - यह motherboard के नीचे लगाया जाता है जिससे हम computer पर वीडियो देख पाते हैgraphic कार्ड को ही video कार्ड भी कहा जाता है  अगर आपके कंप्यूटर में graphic कार्ड नहीं होगा तब हम अपने कम्प्यूटर में वीडियो नहीं देख  पाएंगे आजकल computer में अच्छे से अच्छे graphic कार्ड लगाए जाते है ताकि हम high quality के गेम भी खेल सके। 

IDE  कनेक्टर - इसका फुल form होता है integrated drive electronics यह motherboard में कुछ हार्ड  ड्राइव और optical drive से कनेक्ट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन यह अब बहुत कम उपयोग में लाया जाता है इसकी जगह पर sata cable का use किया जाता है जो की इससे अच्छा काम करता है sata cable भी कई तरह के आते है जैसे SATA   1 , SATA 2 etc

Bios-chip and CM OS Battery - cmos मतलब complimentary metal oxide semiconductor यह battery power semiconductor chip होती है जो की information को store करके रखती है यह time,date से लेकर system hardware settings तक हो सकती है।  अगर cmos battery  ख़राब हो जाती है तब time,date और        system settings save नहीं  होगा।

North bridge and South ब्रिज - computer के motherboard को दो भागो में विभाजित किया जाता है north bridge और साउथ  bridge, north bridge pci स्लॉट को manage करता है और South bridge processor network card को manage करता है।

Rear connector - इन्हे हम port कहते है जिससे हम mouse keyboard को connect करते है।
what is motherboard in Hindi pdf Meaning types of Installation Introduction of Integrated -

What Is Malware? in hindi Virus, Worms, And Trojan

What Is Malware in hindi Virus, Worms, And Trojan,what is Malware in hindi,
malware,virus,worms, trojan, internet software
What Is Malware? n hindi  Virus, Worms, And Trojan
Malware का पूरा नाम Malicious Software (malicious / दोषपूर्ण ) होता है यह तीन type का होता है Virus, Worms और Trojan यानी की एक एसा software जो की ठीक नहीं है और अगर एक बार वो आपकेcomputer या system में आ गया तो वह आपके system को ख़राब कर सकता है। अब जानते है की malware कहा कहा से आपके system में आ सकता है। आज के time में जो सबसे common-sours है वो है Internet, अगर आप Internet पर किसी malicious website पे है और वहा से आप कुछ download करते है या अगर आप pirated movies को download करते है या फिर अगर अगर आप किसी malicious website की किसी advertisement पर click करते है इन सभी sources से आपके computer में या आपके system में malware virus आ सकता है। इसके अलावा offline किसी दूसरी जगह से जैसे अपने किसी एसी pan drive, या किसी CD, DVD को अपने computer में connect करते है तो वहा से भी malware virus आपके computer में आ सकता है। What Is Malware? in hindi Virus, Worms, And Trojan

Malware तीन तरह का होता है virus, Trojan और worms ये तीनो अलग अलग होते है तीनो का अलग अलग काम है और तीनो अलग अलग नुकसान पहुचाते है। 

what is Virus in hindi - virus आपके system में  किसी file या किसी software को corrupt कर सकता है मानलीजिये अलर आपके पास word का  document है और अगर उसमे virus आ गया या virus ने उसे corrupt कर दिया तो वह document जंक junk बन जाएगा और आप उससे कुछ भी information नहीं निकाल पायेगे।और ऐसे में आप जब किसी corrupted file को copy करते है या किसी से share करते  है तो वे virus दुसरे computer में जाकर जहा भी  आप उसे past करते है वह उसे भी ख़राब कर देता है। 

what is Worms in hindi - worms जो होते है वो अपने आपको multiply करता है वह ज्यादा से ज्यादाअपने आपको फैलाने की कोशिश करता  है यदि आपके computer में कोई worms आ गया है तो वह अलग अलग files की बहुत सारी copy बना देगा धीरे धीरे आपके computer को slow कर देगा और अगर आप इन file को किसी दुसरे computer में copy past करते है तो वह वहा भी चला जाता है। और वह वहा पर भी ज्यादा से ज्यादा से ज्यादा किसी file की copy बना देगा  बहुत सारे folders बना कर आपके system को slow कर देगा। 

what is trojan in hindi - Trojan - Trojan यह भेष बदलकर आपके computer में आते है आपको लगता है की वो एक software है लेकिन वो आपके computer को ख़राब करता है। Example - बहुत से  memory cliner होते है antivirus होते है  बहुत से speed buster होते है।  ये सभी Trojan होते है यहाँ पर आपको लगेगा की यह आपके computer की memory को clean करेगे लेकिन अगर इस तरह के Trojan आपके computer में आ जाते है तो कुछ समय बाद आपके computer को slow कर  देते है और साथ ही  साथ और कई प्रकार के Trojan worms और virus को भी अपनी तरफ attract करते है। 

Malware से कैसे बच सकते है - Malware से बचने के लिए आप अगर किसी online website  पर जाते है  तो आपको पता करना चाहिए की ये trusted website है और वह popular और बड़ी website है आप ऐसे ही किसी  link पर click करके उस website पर visit मत कारिये। अगर आपके सामने तरह तरह के ads आते है तो आप फालतू के ad पर click मत कीजिये और अगर आपके पास कोई email आता है की यह एक free software है इसे download करिए। किसी भी तरह के ad हो सकते है उन्हें कभी भी open मत करिए आप online इस तरह की चीजो का ध्यान रख सकते है। इसके अलावा आप अगर एक अच्छा antivirus install करते है तो यह आपके computer के लिए अच्छी बात होगी। यहाँ पर आपको free software नहीं use करना है उसका आपके पास में licence होना चाहिए। अगर आप फ्री antivirus use करेगे तो यहाँ पर आपको कुछ भी फायदा नहीं होगा। आप पैसे देकर किसी भी paid software का use  करिए चाहे वह किसी भी company का हो example- e-scan , Quick Heal, Net protect बहुत सारी  company है जहा से आप paid antivirus purchase कर सकते है आपके पास एक paid antivirus software होना चाहिए। ये antivirus software  किसी भी तरह  के attack  और  virus को आने से रोकते है। 

इसके अलावा आप pirated content अगर download न करे use न करे तो अच्छा होगा। आप virus से  बचने के लिए इन्हें कभी भी use मत करिए। इसके अलावा आप offline  किसी भी unknown source चाहे वह USB हो CD हो या pan drive हो इन्हें आप अपने computer में लगाने से पहले आप confirm कर ले की ये जहा से भी आई है वह virus free है या नहीं  क्यों की एक file copy past करने में आप अपना पूरा system ख़राब कर सकते है। अगर यहाँ पर आपके computer में एक अच्छा paid antivirus software install है तो ये एक अच्छी बात है और अगर आपके पास कोई भी malware antivirus नहीं है तो आप यहाँ पर कोई भी CD या pan drive computer में connect  मत करिए इनसे बचिए। अगर आपका computer कभी भी virus attack में आ जाता है तो बहुत ही जल्दी पूरा computer ख़राब हो सकता है।   

अगर आपके system में पहले में एक malware virus  है तो आप उसे कैसे निकाल सकते है इसके लिए आपको एक अच्छा antivirus का use  कर सकते है उसे clean कर सकते है उसे निकाल सकते है। लेकिन बहुत बार एसा होता है की बहुत से ऐसे malware virus होते है जिन्हें  antivirus clean नहीं कर पाता है तो ऐसे में आप अगर अपने computer को format करते है या Hard Drive  को format करते है तो ऐसे में आप malware virus से  बच सकते है।

इंटरनेट कैसे काम करता है ? internet work kaise karta hai

इंटरनेट कैसे काम करता है internet work kaise karta hai,internet ka मालिक कौन है  इसे कौन चला रहा है Internet मेरे तक पहुचता कैसे है kya hota hai
 आज के Time में बिना Internet के रहना बहुत मुश्किल है लेकिन आपने कभी सोचा है ये Internet काम कैसे करता है? कैसे किसी को कभी ज्यादा speed मिलती है और कभी किसी को कम Speed मिलती है क्यों अलग अलग Operator अलग अलग tariff plan देते है, internet का मालिक कौन है ? इसे कौन चला रहा है? Internet मेरे तक पहुचता कैसे है ? इंटरनेट कैसे काम करता है ? internet work kaise karta hai

what is internet? (internet क्या है ?) -

आप इंटरनेट की मदद से दुनिया की किसी भी जगह की जानकारी प्राप्त कर सकते है। दो या दो से अधिक Computer का आपस में जोड़ना Internet (International network of computer)कहलाता है। भारत में सबसे पहले BSNL ने Internet की शुरुआत 1995 में किया था। इसके बाद में सभी Private Company ने धीरे धीरे internet  शुरू किया था।

Internet काम कैसे करता है ?
दोस्तों India को मिलाकर ये पूरा word Internet से जुड़ा हुआ है लेकिन आपने कभी ये नहीं सोचा होगा की ये काम कैसे करता है अगर आपको लगता है की ये internet satellite से चलता है तो ये गलत है। 90% Internet चलता है Optical fibers cable से। जिस भी कंपनी का आप SIM Card use करते है उस tower से लेकर पूरी एक cable बिछी हुई है। अगर आप किसी भी network provider company को internet का use करने के लिए पैसे देते है तो आपको तो internet GB में मिल जाता है जितने GB का plan आप recharge कराते है। लेकिन उस company ने आगे किसको पैसे दिए या internet की दुनिया में सबसे ऊपर कौन है ?

 internet का मतलब ये है अगर आप अपने mobile या computer से इस पोस्ट को dearhindi.com से पढ़ रहे है तो ये पोस्ट आप तक हजारो किलोमीटर दूर या india से बाहर  उपस्थित google के किसी server से आता हैऔर वो वहा से आपके mobile तक आपके browser में search करने से आता है। इस पोस्ट का डाटा आपके mobile या computer तक आ रहा है। इसका मतलब एक connection तो होना चाहिए आपके mobile से उस server तक। अब ये server india से बाहर है। तो इसके लिए कई सारी company है जो डाटा को भेजने और लाने का काम करती है Optical fibers cable के द्वारा। 

आपके mobile तक internet आते आते तीन अलग अलग कंपनी से गुजरता है। पहला है TR-1 Company, second है  TR-2 Company तीसरा है TR-3 Company . TR-2 और TR-3 company state में और छोटे छोटे शहर में अपनी Optical fibers cable (इन्हे submarine cable भी कहते है)  बिछा कर रखी है।  और TR -1 company ये वो company  है जिसने पूरी दुनिया में समंदर (sea) के अन्दर अपना cable बिछा  के रखी है Internet एक तरह से पूरा Free होता है Free कैसे होता है आप अगर अपने घर से 50 km दूर internet का use करना चाहते है तो आपको आपके घर से 50  km दूर  तक एक cable  बिछा करके  दो कंप्यूटर को आपस में connect कर दो और बोल दो की ये Internet है। आपको शिर्फ़ उस Wire के Maintenance का खर्च उठाना पड़ेगा। इंटरनेट कैसे काम करता है ? internet work kaise karta hai

इसी तरह TR -1 company ने पुरे world में सभी देशो के बीच में समंदर के अन्दर से Optical fibers cable (submarine cable)बिछा दी अब सारे cable connect हो गए country TO country अब आपको country से स्टेट में divide  करना होता है और स्टेट से आपको city में divide करना पड़ता है और city से आपतक local area तक पहुचाया जाता है।TR -1  company जो Optical fibers cable (submarine cable) को समंदर के अन्दर बिछाती है वो कुछ इस  तरह से दिखाई देती है।  इसमें एक एक cable  अपने बाल की साइज़ से भी पतली होती है और एक Optical fibers cable के अन्दर 100 Gbps की speed रहती है।

internet speed,work of internet,optical fober cable,100GB,submarine cable,

India की बात करते है  -

 india में जो Optical fibers cable है वो मुंबई में है जो की इसका landing point है india के operators Reliance-jio, airtel, idea  इन्होने अपने टावर लगवा कर रखे है और India में कही से भी आप कोई भी वेबसाइट में visit करते है जिनके server india के बाहर है वो landing point Mumbai  से निकलेगा इन Optical fibers cable की मदद से और वो चला जाता है उस लोकेशन तक जहा पर वो है। india में Optical fibers cable का landing point, Mumbai ,Chennai, Kochin इन landing point से होकर ही आपका internet चलता है। india में जहाँ पर जिसके server है  वो वहा से आपका डाटा निकाल देगा।

internet speed,work of internet,optical fober cable,100GB,submarine cable,



Reliance-Jio ने अपना खुद का Optical fibers cable  बिछाकर रखा है एशिया अफ्रीका और यूरोप के बीच में इसलिए relince jio आपको कम पैसो  में internet दे देता है क्योकि Reliance jio ने एक बार अपना investment कर दिया है और अगर आप एशिया अफ्रीका और यूरोप की country में जाते है और आप कोई वेबसाइट visit करते है तो Automatically ये उनकी Optical fibers cable  से डाटा को निकाल देता है और इस तरह इनका कोई भी पैसा नहीं लगता है। Reliance-jio 4G लाने के लिए पिछले 5 सालो से इस पर काम कर रहा था Optical fibers cable india के अंदर बिछाने के लिए india के बाहर सभी जगह पहले से ही Optical fibers cable बिछी हुई है। india के अंदर Optical fibers cable बिछने से अच्छी स्पीड 4G speed मिलती है। Optical fibers cable का map  देखने के लिए आप visit कर सकते है www.submarinecablemap.com पर।

internet speed,work of internet,optical fober cable,100GB,submarine cable,

TR -1 कंपनी ने अपना  Optical fibers cable बिछा दिया और पुरे word को connect कर दिया है अब होता क्या है ये केबल crack हो जाती है फट जाती है क्योकि समंदर के अन्दर है और maximum 25 साल से ज्यादा इनकी life नहीं रहती है अब अगर cable फट गई समंदर में कही पे तो इनके लिए वे कई सारी cable को बिछाकर रखते है और internet तो फ्री होता है बस इसका maintenance का चार्ज लगता है जो TR -1 कंपनी को देना पड़ता है तो पर GB के हिसाब से TR -1 कंपनी को पैसा मिल जाता है।  Optical fibers cable को बिछाने और उसको maintenance करने का चार्ज कंपनी को देना पड़ता है बस बाकी और कुछ भी नहीं देना पड़ता है।

कभी कभी अगर Cable ख़राब हो जाती है तो जो Speedआपको मिल रही होती है वो कम हो जाती है क्यों की Optical fibers cable कट गयी और जो भी data जा रहा था इन्ही से जा रहा था यहाँ पर ये लोग Backup बनाकर रखते है और इसे Manage करना पड़ता है software से आपको कुछ भी नहीं करना है आपको बस internet चलाना है और आपतक डाटा जो आप search करते है किसी भी Browser से वो आपतक पंहुचा दिया जाता है दुनिया के किसी भी Server पे।

अब आपको पता चल गया होगा की Internet कैसे काम करता है internet का मालिक कौन है? सबसे ऊपर वो Company जिन्होंने Optical fibers cable को समंदर के अन्दर बिछाया दूसरी वो कंपनी जिन्होंने State Lable पर Network है वो तीसरी वो कंपनी जो छोटे छोटे City में Network provide करती है। ऐसे डेटा का Transfer होता रहता है और आपके प्लान के हिसाब से आपको speed मिलती रहती है जैसे 2G, 3Gऔर 4G Speed.

इन्हे भी पढ़े -

wireless electricity (Witricity) in Hindi

wireless electricity (Witricity)- in hindi wireless electricity kya hota hai current room me failta kaise hai
Future me aapke pass esa device aane wala hai jo aapke room ke andar use lagane par aap current ko pure room me faila sakege aur usse apke normal devices mobile, telivision,car, laptop me wireless ke thrue chala payege.

Technology bahut hi teji se grow kar rahhi hai. sabhi taraf achhe achhe improvements dikh rahe hai leken yaha pe aaj ek chij abhi bhi esi hai. jisko lekar hum jyada improvemebny nahi kar paaye hai. jaha par bhi hum baat karte hai electricity ki waha par hame wires, cables adapter kaam me lenahi padta hai lekin aage chalkar hamari life se yesab hatne waala hai  kyoki aaj mai aaj aapko batane wala hu witricity ke bare me.

witricity kya hota hai,electricity,wireless,current,technology in hindi

wireless electricity (Witricity) in Hindi -witricity ka matlab wireless electricity yaani ki hum wireless tarike se electricity ko agge le ja sake. Ek Australian company hai jo witricity par kaam kar rahi hai aur koshish kar rahi hai ki kaise aage chal kar hum sabhi ki life ashan ban jaaye. 

Apne wireless charging ke baare me to suna hoga ye featuers aaj ka nahi hai wo bahut purana hai aajki date me aap mobile phone me dekhte hoge bade hi aaram se aapne mobile ko chargingpad ke upar rakhne par bahut hi aaram se moblephone charge hone lagta hai. Lekin yaha par ye trully wireless nahi hai yaha par aapko chargig pad ka istemaal karna padt hai agar aap mobile ko charging pad se hata lege to charging band to jaati hai. wireless electricity (Witricity) in Hindi

Lekin yaha par mai aapko batane waala hu trully wireless electricity ki jaha pe aap socho ki aap apne kamre ke andar apne  mobile nikala iske alawa electronicska jitna bhi saaman hai laptop ,tv cooler fan sabhi tak jo current pahuch rahi hai wo wireless pahuch rahi hai.To isse achhi aur kya baat hogi ye chije future me hone waali hai kyoki yaaha par kaam me liya jaa raha hai magnetic resonance ko. electricity aur magnetizm jo hai ye dono aapas me link rahte hai jaaha pe magnetic filld hai waaha par electricity hai jaha electricity hai waha par magnetic filld hai.

yaaha par do esi chijo ko kaam me liya jaata hai jaaha par aap agar un fillds ko resonate kar paaye to hoga ye ki aane waale time me electrics cars bike esi ayegi jinpar aapko kahi par plugin nahi karna padega unhe charge karne ke liye aap unko ghar pe park kijiye aur wireless hi wo charge ho to kitni achhi baat hogi. ye chige grow kar rahi hai bahut jaldi market me aane wali hai .

Ek kamre ke andar esa koi device lag haua hai to uske baad me electricity ko kamre ke andar faila diya hai aur sab kuch  wireless ke thrue chalega yaaha par insaano ko koi problem nahi hogi current se.

Hum transformer se  electricity ko wireless nahi karne wale hai. lekin hum ghar me aur normal devicess mobile, telivision,car , bike,etc me wireless ko impliment kar paayege aur uske baad me sab taraf hone waala hai witricity.

-Internet कैसे काम करता है ?
-motherboard kya hota hai?

Types of transistor in hindi,working types and uses

Types of transistor in hindi,working type and uses Transistor ट्रांजिस्टर का उपयोग pnp और npn ट्रांजिस्टर के बीच का अंतर npn ट्रांजिस्टर के काम

transistor images,radio images,capacitor images,images of resistor

Transistor देखने में बहुत ही छोटा सा electronic component  होता है आजकल transistor का प्रयोग बहुत ही ज्यादा किया जाता है। ट्रांजिस्टर p और n  प्रकार के  सिलिकॉन और Germanium के अर्धचालको से बानी एक छोटी युक्ति है जिसमे तीन terminal तथा दो संधिया होती है " इसे दो P - N संधियों को एक दूसरे के साथ विपरीत क्रम में जोड़कर बनाया जाता है''। ''it is constructed by joining the two p-n semiconductor junction with each other opposite order''

Types of transistor - Transistor मुख्यतः दो प्रकार के होते है - 
1 - npn transistor
2- pnp transistor 

1 - npn transistor- इसे p प्रकार के अर्धचालक की पतली पर्त् के  दोनों तरफ n  प्रकार के अर्धचालक की पर्ते जोड़ी जाती है। इसमें उत्सर्जन (Emitter) n प्रकार का,आधार (Base)p प्रकार का और संग्रही (Collector)n प्रकार का होता है। 
npn transistor images,radio images,npn images,images of resistor,logo,
2- pnp transistor - इसे n प्रकार के अर्धचालक की पतली पर्त् के  दोनों तरफ p  प्रकार के अर्धचालक की पर्ते जोड़ी जाती है। इसमें उत्सर्जन(Emitter) p प्रकार का,आधार (Base) n प्रकार का और संग्रही (Collector)p प्रकार का होता है।
pnp transistor images,radio images,pnp images,images of resistor,logo,
Types of transistor in hindi,working type and uses
Uses of transistor ट्रांजिस्टर के उपयोग - ट्रांजिस्टर को use  में लाने के लिए ज्यादातर तीन प्रकार के विधुत परिपथ प्रयुक्त किये जाते है। 
1- common base circuit
2-common emitter circuit
3-common collector circuit.
इसके अलावा transistor का प्रयोग सबसे ज्यादा Amplifire के लिए किया जाता है मतलब किसी भी signal को बढ़ाने (Increase) के लिए transistor का use किया जाता है। 

Benefit of transistor लाभ  -
1- यह तेजी से काम करते है। 
2- यह जल्दी ख़राब नहीं होते है। 
3- बहुत छोटे और सस्ते होते है। 
4-इनकी life बहुत ज्यादा होती है।
semiconductor क्या होता है ?

एक transistor को बनाने के लिए हमें p type और n -type semiconductor को मिलाकर बनाया जाता है। अगर आप diode के बारे में जानते है तो आपको पता होगा की डायोड बनाने में भी p type और n -type semiconductor का use किया जाता है अगर हम दो डायोड को एक साथ जोड़ते है तो वह transistor बन जाता है। 

What is Transformer in hindi Working, type and use

What is Transformer in hindi Working, type and use,transformer details in hindi theory in hindi pdf download working principle of transformer pdf

Transformer :- Transformer एक ऐसी device है जो प्रत्यावर्ती धारा (Alternating current) को बढ़ाने और घटाने (Increase-decrease)के काम में लाया जाता है। यह दो type का होता है! working and type transformer in hindi,what is transformer in hindi,what is transformer in hindi Working and type and use.
1. अपचायी ट्रांसफार्मर (step-down transformer)
2. उच्चायी ट्रांसफार्मर (step-up transformer)

Transformer के तीन part होते है इसमें दो प्रकार की winding होती है primary winding and secondary winding जो की copper की बनी होती है और एक पटलिट क्रोड़ (luminated or metallic core) होता है। transformer को सबसे पहले Michael faraday ने इसे 1831 में  बनाया था। इसे हिंदी में परिणामित्र कहते है। 

transformer,stepup stepdown,strength,current,power,input,output,image

What is Transformer in hindi Working, type and use

step-up Transformer: 

transformer,electrical transformer images,electrical transformer hd images, stepdown,strength,current,power,input,image

यह transformer voltage को बढ़ाने के काम में आता है। यह कम प्रत्यावर्ती विभवांतर को उच्च प्रत्यावर्ती विभवांतर में बदलता है। इसमें output में प्राप्त प्रतायवर्ती धारा का मान input धरा से कम होता है primary कुंडली में फेरो की संख्या कम तथा तार मोटा होता है जबकि secondary कुंडली में winding की संख्या अधिक तथा कुंडली में  तार पतला होता है। 

step-Down Transformer:-  


transformer,electrical transformer images,electrical transformer hd images, stepdown,strength,current,power,input,image

यह transformer voltage को घटाने के काम में आता है। यह उच्च  प्रत्यावर्ती विभवांतर को  क़म (low) प्रत्यावर्ती विभवांतर में बदलता है। इसमें output में प्राप्त प्रत्यावर्ती  धारा का मान input धरा से अधिक होता है primary कुंडली में फेरो की संख्या अधिक तथा तार पतला  होता है जबकि secondary कुंडली में winding की संख्या कम तथा कुंडली में  तार मोटा होता है। 
What is Transformer in hindi Working, type and use
transformer electric circuit की Strength change करते है। 
P,V.I (P=power,I=current,V=voltage)
P=V.I

Transformer ऊर्जा हानि (Energy loss in transformer)- 
transformer  में energy loss  चार तरह से होती है 
1- copper loss  (ताम्र हानि)
2- hysterisis loss (शैथिल्य हानि)
3- iron loss (लौह हानि)
4- loss due to leakage of magnetic flux. (चुंबकीय flax के क्षरण के कारण हानि)

Transformer के उपयोग - 

1- विधुत शक्ति को पावर उत्पादन केंद्र से दूर स्थानों तक भेजने में। 
2- night lamp में। 
3- बिल्डिंग कार्य में। 
4- विधुत से चलने वाले उपकरण जैसे telivision,radio,Refrigerators,motor इत्यादि में किया जाता है। 

15 August Independence Day Essay in Hindi

15 August Independence Day Essay in Hindi

ज का दिन हमसभी भारत वाशियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। स्वतंत्रता दिवस - 15 August Independence Day यह दिन इतिहास के पन्नो में सदा के लिए लिखा जा चूका है। आजादी के बाद दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतंत्र देश है। बड़ी ख़ुशी के साथ 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह सभी भारतवासियो  के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन होता है। क्यों की आजादी से  पहले  लोगो को पढ़ने लिखने की अच्छा खाना खाने की और हमारी तरह जीवन जीने की अनुमति  नहीं थी क्योकि अंग्रेजो द्वारा भारतीयों के साथ बुरा वर्ताव किया जाता था। 


आर्मी तो है देश की शान, 
जिन्दा दिली है जिसकी पहचान।

Happy Independence Day

independence day;independence day images


!!जश्न आजादी का मुबारक हो देश वालो को,
फंदे से मोहब्बत थी हम वतन के मतवालों को !!






हमारा देश सदियों की गुलामी के बाद 15 August 1947 के दिन आजाद हुआ था।  पहले हम अंग्रेजो के गुलाम थे तब देश के अनेक वीरो ने अपने प्राणों की बाजी लगाई, गोलिया खाई और आखिरी में आजादी पाकर ही दम लिया। भारत को 15 अगस्त के दिन वह सुनहरी आजादी प्राप्त हुई थी जिसका लोगो को वर्षो से इन्तजार था। इस दिन भारत के प्रथम प्रधान मंत्री प.जवाहरलाल नेहरु ने दिल्ली के लालकिले पर राष्ट्रध्वज  फहराया था।15 August को  हमारा देश आजाद हुआ था इसलिए इसदिन को स्वतंत्रता दिवस के रूम में मनाया जाता है। 

15 August Independence Day Essay in Hindi

आजादी कहे या स्वतंत्रता (आजादी / स्वतंत्रता) ये दोनों ऐसे शब्द है जिसमे पूरा आसमान समाया है। आजादी की चाहत मनुष्य को ही नहीं बल्कि जीवजंतु और पशु पक्षिओ  में भी होती है। सदियों से भारत अंग्रेजो का गुलाम था। जिस देश में चंद्रशेखर आजाद, राजगुरु, भगतसिंह, सुभासचंद्रबोस , बालगंगाधर तिलक, सरदारबल्लभ भाई पटेल, नेहरू और महात्मा गाँधी जैसे अनेको देशभक्त  मौजूद हो उस देश को अंग्रेज कब तक गुलाम बना सकता था। 

1947 से आजतक हम बड़े उत्साह के साथ 15 August को  मानते चले आ रहे है। इसदिन सभी सरकारी कार्यालयों, स्कूलो में रास्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है। रास्ट्रीय गीत गाया जाता है और उन सभी महानपुरुषो को श्रधांजली दी जाती है जिन्होंने स्वतंत्र के लिए अपना बलिदान दिए। हमारे देश की राजधानी Delhi में हमारे प्रधानमंत्री लालकिले पर रास्ट्रीय ध्वज फहराते है। प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्र के नाम भाषण/सन्देश दिया जाता है। 

हमारा कर्तब्य है की हम हमारे स्वतंत्र राष्ट्र की रक्षा करे, देश का नाम विश्व में रोशन करे। कालाबाजारी और घूसखोरी को देश से समाप्त करे।  भारत का नागरिक होने के नाते स्वतंत्रता का नातो स्वयं दुरूपयोग करे और न दूसरो को करने दे। एकता के साथ मिलकर रहे हमारे लिए स्वतंत्रता का बड़ा महत्वा है हमें अच्छे कार्य करना है और देश को आगे बढ़ाना है। 

Independence Day images

   आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी सुभकामनाये। 

Independence Day images


Independence Day images

Happy Independence Day

Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


Independence Day images


15 August Independence Day Essay in Hindi

Happy Independence Day Today is a very important day for all Indians. Independence Day - 15th August Independence Day This day has been written forever in the pages of history. India is the largest democracy in the world after independence. With great happiness, August 15 is celebrated as Independence Day. This is a very important day for all Indians. Why, before freedom, reading the people was not allowed to eat good food to write and live a life like us, because the British used to be misinterpreted with the Indians.15 August Independence Day Essay in Hindi

Our country was liberated on 15 August 1947 after the slavery of the centuries. Earlier, we were the slaves of the British, many of the country's heroes put a bet of their lives, dug out the bullets, and got the freedom in the last. On 15th August, India received the golden freedom, whose people were waiting for years. On this day, the first Prime Minister of India, P. Jawaharlal Nehru, hoisted the national flag on the Red Fort of Delhi. On 15th August our country was liberated, so this day is celebrated in the room of Independence Day.

Freedom or freedom (freedom / freedom) are both words in which the whole sky is covered. Freedom is not only for humans, but also for animals and animals. For centuries, India was a slave of the British. How long could the British become a slave to the country where many patriots such as Chandrashekhar Azad, Rajguru, Bhagat Singh, Subhaschandrabos, Balgangadhar Tilak, Sardarballabh Bhai Patel, Nehru and Mahatma Gandhi exist?
15 August Independence Day Essay in Hindi

Since 1947, we have been following 15 August with great enthusiasm. On this day national flag is hoisted in all government offices, schools. Rastri songs are sung and tributes are given to all the great men who have sacrificed their lives for free. In our country capital Delhi, our Prime Minister hoisted the National Flag at Red Fort. Speech / message is given to the nation by the Prime Minister.

Our duty is to protect our independent nation, make the country's name illuminated in the world. Cut black marketing and bribery from the country. Being a citizen of India, freedom of independence should be misused and not allow others to do so. Having together with unity, freedom is a major factor for us. We have to do good work and move the country forward.


15 August Independence Day Essay in Hindi



Essay in Hindi 15 August Independence Day 



-: स्वतंत्रता दिवस Day independence day: -

In India, 'Independence Day' is celebrated on 15th August. On August 15, 1947, India attained independence from the British Empire. This day is celebrated as a national festival.

On Independence Day, Prime Minister Lal Qila hovers the flag in Delhi. The flags are saluted and national songs and melodies are sung. The Prime Minister gives the message of the nation and the patriots are remembered.

Flag Rohan and cultural programs are organized in all the state capitals of the country. There is a flag hoisting program in all government, semi-government, corporation and administrative offices. There are various programs, sports and competitions organized in schools and colleges and winners are honored.



15 August Independence Day Essay स्वतंत्रता दिवस

15 August Independence Day Essay in Hindi- स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता है



Happy Independence Day

15 august independence day; independence day;independence day images


15 August Independence

ज का दिन हमसभी भारतवाशियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। स्वतंत्रता दिवस - 15 August Independence Day यह दिन इतिहास के पन्नो में सदा के लिए लिखा जा चूका है। आजादी के बाद दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतंत्र देश है। बड़ी ख़ुशी के साथ 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह सभी भारतवासियो  के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन होता है। क्यों की आजादी से  पहले  लोगो को पढ़ने लिखने की अच्छा खाना खाने की और हमारी तरह जीवन जीने की अनुमति  नहीं थी क्योकि अंग्रेजो द्वारा भारतीयों के साथ बुरा वर्ताव किया जाता था। 

हमारा देश सदियों की गुलामी के बाद 15 August 1947 के दिन आजाद हुआ था।  पहले हम अंग्रेजो के गुलाम थे तब देश के अनेक वीरो ने अपने प्राणों की बाजी लगाई, गोलिया खाई और आखिरी में आजादी पाकर ही दम लिया। भारत को 15 अगस्त के दिन वह सुनहरी आजादी प्राप्त हुई थी जिसका लोगो को वर्षो से इन्तजार था। इस दिन भारत के प्रथम प्रधान मंत्री प.जवाहरलाल नेहरु ने दिल्ली के लालकिले पर राष्ट्रध्वज  फहराया था।15 August को  हमारा देश आजाद हुआ था इसलिए इसदिन को स्वतंत्रता दिवस के रूम में मनाया जाता है। 

आजादी कहे या स्वतंत्रता (आजादी / स्वतंत्रता) ये दोनों ऐसे शब्द है जिसमे पूरा आसमान समाया है। आजादी की चाहत मनुष्य को ही नहीं बल्कि जीवजंतु और पशु पक्षिओ  में भी होती है। सदियों से भारत अंग्रेजो का गुलाम था। जिस देश में चंद्रशेखर आजाद, राजगुरु, भगतसिंह, सुभासचंद्रबोस , बालगंगाधर तिलक, सरदारबल्लभ भाई पटेल, नेहरू और महात्मा गाँधी जैसे अनेको देशभक्त  मौजूद हो उस देश को अंग्रेज कब तक गुलाम बना सकता था। 

1947 से आजतक हम बड़े उत्साह के साथ 15 August को  मानते चले आ रहे है। इसदिन सभी सरकारी कार्यालयों, स्कूलो में रास्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है। रास्ट्रीय गीत गाया जाता है और उन सभी महानपुरुषो को श्रधांजली दी जाती है जिन्होंने स्वतंत्र के लिए अपना बलिदान दिए। हमारे देश की राजधानी Delhi में हमारे प्रधानमंत्री लालकिले पर रास्ट्रीय ध्वज फहराते है। प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्र के नाम भाषण/सन्देश दिया जाता है। 

हमारा कर्तब्य है की हम हमारे स्वतंत्र राष्ट्र की रक्षा करे, देश का नाम विश्व में रोशन करे। कालाबाजारी और घूसखोरी को देश से समाप्त करे।  भारत का नागरिक होने के नाते स्वतंत्रता का नातो स्वयं दुरूपयोग करे और न दूसरो को करने दे। एकता के साथ मिलकर रहे हमारे लिए स्वतंत्रता का बड़ा महत्वा है हमें अच्छे कार्य करना है और देश को आगे बढ़ाना है। 15 August Independence Day Essay in Hindi-

   आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी सुभकामनाये। 



-:स्वतंत्रता दिवस -- independence day: -

In India, 'Independence Day' is celebrated on 15th August. On August 15, 1947, India attained independence from the British Empire. This day is celebrated as a national festival.

On Independence Day, Prime Minister Lal Qila hovers the flag in Delhi. The flags are saluted and national songs and melodies are sung. The Prime Minister gives the message of the nation and the patriots are remembered.

Flag Rohan and cultural programs are organized in all the state capitals of the country. There is a flag hoisting program in all government, semi-government, corporation and administrative offices. There are various programs, sports and competitions organized in schools and colleges and winners are honored. 

what is semiconductor in Hindi

what is semiconductor in hindi kya hai,physics,laser,semiconductor definition,चालक किसे कहते है परिभाषा कुचालक और सुचालक में अंतर विधुत के सुचालक
Semi-conductor- वे पदार्थ जिनमे निम्न (कम) ताप पर तो विधुत प्रवाह आसानी से हो नहीं हो पाता है लेकिन ताप बढ़ने पर विधुत प्रवाह आसानी से हो जाता है ऐसे पदार्थ अर्द्धचालक (semiconductor) कहलाते है। semiconductor kya hota hai,semiconductor definition in hindi


Example- उदाहरण के लिए सिलिकॉन (silicon)तथा जेर्मेनियम (germanium)अर्धचालक (semiconductor devices) है। semiconductor in hindi pdf 
-tranistor-ट्रांजिस्टर क्या होता है ?


  • Types of semiconductor- semiconductor दो प्रकार के होते है। types of semiconductor in hindi
1 . आंतर या निज अर्द्धचालक इसे english में  instrinsic कहते है। what is instrinsic in hindi,
2 . बाहँ या अशुद्ध अर्द्धचालक इसे english में  extrinsic  कहते है।  what is extrinsic in hindi,

आंतर या निज अर्द्धचालक or instrinsic 

बुल्कुल शुद्ध अर्द्धचालक को आंतर या निज अर्द्धचालक कहते है। example -silicon तथा germanium निज अर्द्धचालक के उदाहरण है। semiconductor laser in hindi

बाहँ या अशुद्ध अर्द्धचालक or extrinsic 


उपद्रव या अशुद्ध युक्त अर्द्धचालक को बाहँ अशुद्ध अर्द्धचालक कहते है। जब किसी शुद्ध या आंतर अर्द्धचालक में थोड़ा सा (impurity) अपद्रव मिला दिया जाता है तो अर्द्धचालक(semiconductor-physics) की चालकता बहुत बढ़ जाती है। ऐसे अर्द्धचालक को अशुद्ध अर्द्धचालक or extrinsic कहते है।  

शुद्ध अर्द्धचालक में मिलाये गए उपद्रव की प्रक्रिया के आधार पर शुद्ध अर्द्धचालक or extrinsic दो प्रकार के होते है। 

A. N-TYPE or donor semi-conductor इसे हिंदी में दाता अर्द्धचालक कहते है। 
B. P-TYPE or acceptor semi-conductor  इसे हिंदी में ग्राही अर्द्धचालक कहते है। 
  • N-TYPE semi-conductor diode- p type semiconductor in hindi
यदि शुद्ध germanium क्रिस्टल में पांच सयोजकता वाले उपद्रव परमाणु जैसे एंटीमनी आर्सेनिक फॉस्फोरस आदि डाले जाते है तो प्राप्त क्रिस्टल N-TYPE का semi-conductor कहलाता है। 

1. यह शुद्ध अर्द्धचालक में पांच सयोजकता वाले उपद्रव परमाणुओ की अशुद्धि मिलाने पर प्राप्त होता है। 
2. इसमें बहुसंख्यक धारवाहक  इलेक्ट्रान होते है। 
3. इसमें अल्पसंखयक धारवाहक होल होते है। 
4. इसमें निश्चल आयाम धनात्मक आवेशित होते है जिन्हे दाता आयाम कहते है। इन दाता आयामों की शंख्या इलेक्ट्रानो की  शंख्या  के बराबर होती है। 
  • P-TYPE semi-conductor diode- type semiconductor in hindi 
यदि शुद्ध  germanium क्रिस्टल में तीन सयोजकता वाले उपद्रव परमाणु जैसे  aluminium ,बोरान indium आदि डाले जाते है तो प्राप्त क्रिस्टल P-TYPE का semi-conductor कहलाता है। 

1. यह शुद्ध अर्द्धचालक में तीन सयोजकता वाले उपद्रव परमाणुओ की अशुद्धि मिलाने पर प्राप्त होता है। 
2. इसमें बहुसंख्यक धारवाहक  होल  होते है। what is semiconductor in Hindi
3. इसमें अल्पसंखयक धारवाहक  इलेक्ट्रान होते है। 
4. इसमें निश्चल आयाम ऋणात्मक आवेशित होते है जिन्हे ग्राही आयाम कहते है। इन ग्राही आयामों की शंख्या होलो की  शंख्या  के बराबर होती है। 

-tranistor-ट्रांजिस्टर क्या होता है ?